दोपहर में नींद की झपकी के फायदों से आप भी होंगे अनजान

Health News


दोपहर की नींद का नाम सुनते ही फिल्‍म 3 ईडियट्स में प्रोफेसर सहस्‍त्रबुद्धे की छवि सामने आ जाती है। इस भूमिका को एक्‍टर बोमन ईरानी ने बखूबी निभाया था। सहस्‍त्रबुद्धे हर रोज दिन में सिर्फ 7.5 मिनट की नींद की झपकी लेते थे। वहीं असल लाइफ में भी कई लोग दिन में भी नींद की झपकी लेना बहुत जरूरी मानते हैं। तो कई बार लोग दिन में सिर्फ 5 से 10 मिनट की झपकी लेकर भी बहुत रिलेक्‍स महसूस करते हैं। अंदाजन 1 से 2 घण्‍टे की झपकी लेना सेहत के लिए अच्‍छा होता है। वहीं अगर कई लोग सुबह जल्‍दी उठते हैं तो दिन में कुछ देर सोना उनके लिए जादू की झप्‍पी की तरह होता है।

नींद का मस्तिष्‍क पर बहुत प्रभाव पड़ता है। आइए जानते हैं दिन में नींद झपकी लेने से क्‍या फायदे होते हैं –

– दिन में नींद की 1 घंटे झपकी लेने से शरीर के मसल्‍स को आराम मिलता है। दिमाग रिलैक्‍स हो जाता है।

इसलिए अक्‍सर सो कर उठने के बाद इंसान अधिक तेजी से काम करने लगता है।

– अक्‍सर महिलाएं सुबह उठकर सभी काम करती है और रात में देर तक काम करती है।
दिन में नींद की झपकी से बॉडी को बहुत हद तक आराम मिल जाता है।
इसलिए भी वे कई बार देर तक काम करने के बाद भी नहीं थकती है। महिलाओं को अक्‍सर दिन में सोने की आदत रहती है, हालांकि इससे काफी आराम महसूस करती है।

– जॉब करने वाले या सुबह 7 बजे स्‍कूल जाने वाले बच्‍चों को दिन में 15 मिनट की झपकी भी बहुत रिलैक्स महसूस कराती है। बच्‍चे दिन में 2 घंटे तक भी सोते हैं और वह उनके लिए फायदेमंद भी है। वहीं जॉब करने वाले दिन में ऑफिस में रहते हैं। लेकिन वक्‍त मिलने पर 15 मिनट की झपकी जरूर निकालना चाहिए। इससे अलर्टनेस बढ़ती है। और काम भी अधिक अच्‍छे से होता है।

– कई बार ठीक लोग सिर्फ नींद पूरी नहीं होने से बहुत चिड़चिड़े हो जाते हैं। मूड स्विंग होने लगता है, दिनभर कान रहती है, आलसीपन बना रहता है। दिन में सोने मात्र से भी इंसान बहुत रिलैक्स महूसस करता है।
कुछ लोग होते हैं जिन्‍हें दिन में चाय पीने की आदत होती है उसी तरह कुछ लोगों को दिन में 15 मिनट सो जाने मात्र से ही दिमाग की नसें रिलैक्‍स हो जाती है और काफी रिलैक्स महसूस करता है सच्‍चाई यह भी है कि जो लोग बहुत अधिक सोते हैं उनका दिमाग तेज चलता है, वह जल्‍दी और सटीक निर्णय लेने में कुशल होते हैं।

– दिन में नींद की झपकी लेना जरूरी है लेकिन सही समय पर ही। जी हां, एक्‍सपर्ट के मुताबिक दिन में 3 बजे के बाद नहीं सोना चाहिए। बॉडी की बायोलॉजिकल क्‍लॉक पर गलत असर पड़ता है। क्‍योंकि पूरी और अच्‍छी नींद लेने का सही समय रात का ही है। अक्‍सर 3 बजे सोने के बाद आपको जल्‍दी उठना पड़ता है। साथ ही 1 बजे से 3 बजे तक समय बहुत शांतिप्रिय होता है। वहीं 3 बजे बाद शोर होने लगता है। इसलिए नींद में झपकी लेने का सही समय 1 से 3 बजे तक का है।

Source


Like it? Share with your friends!

Choose A Format
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals
Video
Youtube, Vimeo or Vine Embeds
Image
Photo or GIF